September 17, 2021

Real News Bihar – Today Breaking News

Aaj Ki Taja Khabar, Samachar

कई प्रतिष्ठानों में छापामारी कर 10 बाल मजदूरों को कराया गया मुक्त

चकिया |  शहर के विभिन्न प्रतिष्ठानों में बाल मजदूरी कराने वाले दुकानदारों को बाल मजदूरी कर आना महंगा पड़ा. मंगलवार को जिले से आए श्रमधिक्षक राकेश रंजन (Labor Superintendent Rakesh Ranjan) के नेतृत्व में शहर के अलग अलग प्रतिष्ठानों में छापामारी कर मजदूरी कर रहे दस बाल मजदूर को मुक्त कराया गया. वही बाल पर्वतन पदाधिकारियों की टीम ने मुक्त कराये गए सभी बच्चों को थाने लेकर गई जहाँ से आवश्यक कागजी प्रक्रिया पूरा कर टीम बाल मजदूर को अपने साथ मोतिहारी लेती गई. इस बाबत बाल श्रम प्रवर्तन पदाधिकारी ने बताया कि मुक्त कराए गए बाल श्रमिकों को बाल कल्याण समिति पूर्वी चंपारण के कार्यालय में प्रस्तुत किया जाएगा वहां बच्चों से आवश्यक पूछताछ की जाएगी.

इस क्रम में बाल मजदूरों को चाइल्डलाइन के संरक्षण के तहत बाल गृह में रखा जाएगा यहाँ बच्चों को भोजन सहित आवश्यक सुविधाएं मुहैया करायी जायेगी . बताया कि दोषी पाए जाने वाले दुकानदारों के विरूद्ध मामला दर्ज किया जाएगा जिस के तहत दोषी पाये जाने वाले दुकानदारों को आर्थिक दंड का प्रावधान है. साथ ही मुक्त कराए गए बच्चों को सरकार की ओर से खाता में 25 हजार रुपया दिया जाएगा जो मुक्त कराये गये बच्चे बालिग होने पर स्वयं को निकासी करेगा. बाल श्रम प्रवर्तन टीम के द्वारा की गई छापेमारी से बाल मजदूरी करा रहे दुकानदारों के बीच हड़कंप मच गया जो चर्चा का विषय बना रहा. जिला से आए छापामारी दल में बाल श्रमधीक्षक के अलावा बाल प्रवर्तन पदाधिकारी जुली कुमारी, रवि भूषण ,पुरुषोत्तम कुमार रामप्यारे व अनिल कुमार के साथ-साथ सीपीओ राकेश कुमार एएसआई एनडी दास व सशस्त्र बल के जवान शामिल थे.