September 17, 2021

Real News Bihar – Today Breaking News

Aaj Ki Taja Khabar, Samachar

शहर में कई अतिक्रमण के है मामले, लेकिन दर्जनों गरीबों के आशियाने पर चला प्रशासन का बुल्डोर

दर्जनों गरीबों के आशियाने पर चला प्रशासन का बुल्डोजर

नरकटियागंज | शहर के वार्ड नम्बर 5 और 6 नंदपुर खोड़ी मुहल्ले में प्रशासन ने सरकारी जमीन पर अतिक्रमण का हवाला देते हुए सोमवार को भारी दल-बल के साथ -प्रशासनिक टीम ने बल पूर्वक करीब 50 घरों पर बुल्डोजर चलाकर गरीब आशियानों को क्षतिग्रस्त कर दिया गया । हालांकि इससे पूर्व वहां आक्रोशित परिवारों के कोपभाजन का शिकार भी पुलिस-प्रशासन को होना पड़ा। इस दौरान सैकड़ो की संख्या में लोगों के साथ-साथ भारी संख्या में महिलाएं और बच्चे बुल्डोजर के आगे लेटकर आक्रोशित होकर विरोध करने लगे । करीब 2 घंटे तक चले गहमागहमी के बाद आक्रोशित लोगों ने जेसीबी का शीशा तोड़ जेसीबी चालक को घायल कर दिया | भीड़ को देखते हुए पुलिस प्रशासन द्वारा लोगों पर लाठीचार्ज कर दिया गया और फिर घरों को जेसीबी से तहस नहस करना शुरू कर दिया गया। मौके पर एसडीएम श्रीमती साहिला, एसडीपीओ कुन्दन कुमार, डीसीएलआर अजय कुमार सिंह, सीओ राहुल कुमार, शिकारपुर थानाध्यक्ष समेत कई थाना के पुलिस बल के साथ साथ जिले से भारी संख्या में मंगाए गए सैप जवान व बिहार पुलिस बल के जवान के साथ साथ महिला पुलिस बल भी मौजूद रहे। इस दौरान पुलिस की पिटाई में कई लोगों के साथ साथ महिलाएं और बच्चे घायल हो गए , जबकि मामले में पुलिस ने 4 ग्रामीणों को भी हिरासत में लिया है। इस पूरी कार्रवाई के दौरान नगर परिषद सिटी मैनेजर विनय रंजन ने पावर के नशे में चूर दिखे। सिटी मैनेजर ने ना सिर्फ लोगों और महिलाओं को गंदी गंदी गालियां दी, बल्कि एक बुजुर्ग को पकड़कर उसे बुरी तरह पीटते भी दिखे। मौके पर घटनास्थल से चंद कदमों की दूरी पर मौजूद एसडीएम घंटो गाड़ी में ही बैठकर पल पल की अपडेट लेती रही |

शहर में कई अतिक्रमण के  है मामले, लेकिन दर्जनों गरीबों के आशियाने पर चला प्रशासन का बुल्डोर
शहर में कई अतिक्रमण के है मामले, लेकिन दर्जनों गरीबों के आशियाने पर चला प्रशासन का बुल्डोर

 

तो वही एसडीपीओ कुन्दनकुमार ने लोगों को समझाने बुझाने की कोशिश में लगे रहे, लेकिन इन वरीय अधिकारियों से अलग हटकर सिटी मैनेजर द्वारा कार्रवाई के दौरान मारपीट और गाली गलौज चर्चा का विषय बना हुआ है ।इस पूरे प्रकरण में पुलिस प्रशासन की कार्रवाई सवालों के घेरे में तो है ही, सबसे ज्यादा सवालिया निशाना अनुमण्डल प्रशासन की कार्रवाई पर लग रहे है। लोगों का आरोप है कि बिना किसी कोर्ट के आदेश और बिना किसी सरकारी सूचना के ही अचानक भारी संख्या में पुलिस बल और अधिकारियों के साथ पहुंच कर दर्जनों गरीबो के सर से छत को क्षतिग्रस्त कर दिया गया। जबकि शहर में कई ऐसे अतिक्रमण के मामले है जहां आलीशान बिल्डिंगे बनी है वहां पर कोई कार्रवाई आखिर क्यों नही होता। बता दें कि शहर के कई धर्मशाला की जमीन को फर्जी तरीके से खरीद बेच का अतिक्रमण कर लिया गया, तो वही बेलवा साठी नहर के जमीन पर कई बिल्डिंगे अवैध रूप से बनी हुई है। ऐसे कई मामले है शहर में जहां अतिक्रमण का खेल प्रशासन की नाक के निचे होता है और प्रशासन तमाशबीन बनी हुई है। लेकिन कोरोना संक्रमण काल और बरसात में उजाड़े गए घरों की वजह से अब दर्जनों परिवारों के समक्ष कई मुश्किलें खड़ी हो गयी है। इस पूरे प्रकरण में शहर के बड़े कपड़ा व्यवसायी टिंकू सिंह की भूमिका पर भी सवालिया निशान है |

 

रिपोर्ट -दिग्विजय शुक्ला