July 25, 2021

Real News Bihar – Today Breaking News

Aaj Ki Taja Khabar, Samachar

ईद उल अजहा पर मांगी गई अमन और शांति की दुआ 

बेतिया  पश्चिमी  / चम्पारण | नरकटियागंज अनुमंडल अंतर्गत सभी मुस्लिम समुदाय के लोगो ने बुधवार को सौहार्दपूर्ण तरीके से ईद उल अज्हा (बकरीद) का पर्व मनाया गया। इस्लाम में इस पर्व का विशेष महत्व है. इस्लाम के मुताबिक हजरत इब्राहिम अलैहिस्सलाम ने खुदा के आदेश के मुताबिक अपने बेटे हजरत इस्माइल अलैहिस्सलाम को इसी दिन को कुर्बान करने के लिए आखों पर पट्टी एवं हाथ पैर बांध कर जमीन पर लेटा दिये थे. फिर उन्होंने ने अपने बेटे के गर्दन पर चाकू फेरना शुरू किया.

तभी खुदा उनके जज्बे को देखकर उनके बेटे की जगह बकरा का रूप दे दिया उसके बाद बकरे की कुर्बानी दी गयी थी.उसके बाद से यह परम्परा मुस्लिम समुदाय के लोगो द्वारा प्रतिवर्ष ईद उल अजहा (बकरीद) के रूप में मनाई जाती है. यह पर्व यह पर्व मुस्लिम समुदाय के लोग बड़े धूमधाम से मनाते हैं.जो कि हमारे क्षेत्र में तीन दिनों तक जारी रहता है.बताया जाता है कि इस दिन लाचार वेवश, असहाय गरीबों पर खास ध्यान रखा जाता है.बकरे की कुर्बानी के बाद उसे तीन हिस्सो में किया जाता है. जिसके बाद एक हिस्सा खुद के लिए रखा जाता है, एक हिस्सा पड़ोसियों और रिश्तेदारों को बांटा जाता है. और एक हिस्सा गरीब और जरूरतमंदों को बाट दिया जाता है. इस दिन बच्चे बूढ़े जवान सभी अच्छे-अच्छे लिबास पहनकर पहले नमाज अदा करते उसके बाद एक दूसरे को गले लगाते हुए मुबारक बाद देते है.हालांकि इस साल कोविड 19 को देखते हुए सभी लोगो द्वारा अपने घरों में ही नमाज अदा करने की अपील प्रशासन के द्वारा की गई थी.

 

 

 

 

 

 

संवाददाता :  डी एन शुक्ला